English

कॅरियर

जन नीति (पीपल पॉलिसी)

भारत में ऊर्जा क्षेत्र के उदारीकरण ने व्यापार के नए अवसरों के लिए मार्ग प्रशस्त किया है और इस क्षेत्र में व्यापार की प्रकृति को पुर्नपरिभाषित किया है। भविष्य को देखते हुए और ऊर्जा क्षेत्र को ज्यादा मुनाफे का क्षेत्र बनाने व भविष्य की निवेश जरूरतों को पूरा करने में सक्षम बनाने संबंधी जरूरतों के मद्देनजर इन सुधारों ने नई तकनीकों के लिए कई क्षेत्र खोले हैं।

अवसरों के इस नए माहौल में, संसाधनों के संदर्भ में अपनी प्रतिस्पर्धी बढ‍़त के साथ टाटा पावर परिवर्तन की प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है। कम लागत पर अपने सभी ग्राहकों को अबाधित, किफायती गुणवत्तापूर्ण उत्पाद और सेवाएं व अंतर्राष्ट्रीय स्तर की ग्राहक सुविधाएं मुहैया कराते हुए अपने सभी हितधारकों को सतत मूल्य प्रदान करना और सर्वाधिक प्रशंसित एकीकृत विद्युतकंपनी बनना ही इसका उद्देश्य है।

इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए टाटा पावर में हमारा मानना है कि लोगों और उनकी क्षमताओं में निवेश सबसे महान निवेशों में से है, जिसे हम कर सकते हैं। इसके लिए, हम लगातार प्रतिभाओं की खोज कर रहे हैं, जो दृढ़ता के साथ उत्कृष्टतापूर्वक प्रदर्शन कर सकें और कामयाबी हासिल कर पाएं।

इसीलिए हमारा एचआर तंत्र और नीतियां कुछ इस तरह तैयार की गई हैं, ताकि हमारे लोगों को अपनी छिपी क्षमताओं को प्रकट करने का मौका मिल सके। इसके साथ ही, लगातार सीखने की प्रक्रिया की गति बढ़ाकर और प्रदर्शन आधारित कार्य संस्कृति को बढ़ावा देकर, जिससे हमारे लोगों को उच्च स्तरीय सेवाएं उपलब्ध कराने के दौरान अपने विकास, कामयाबी और अपनी वास्तविक क्षमता का पूरा उपयोग करने का मौका मिल सके।

योग्यता और क्वालीफाई करने की अन्य शर्तें समान होने के बावजूद अनुसूचित जाति/जनजाति के लोगों को प्राथमिकता मिलेगी।